Friday, September 25, 2015

शैलेन्द्र शर्मा का नवगीत

वर्तमान राजनैतिक जीवन का यथार्थ चित्रण है, इसे किसी जाति या वर्ग से न जोड़ा जाय तोअच्छा है।

-बसन्त शर्मा
July 17 at 9:35pm

No comments: