Wednesday, September 02, 2015

एक हाथ में हल की मुठिया

रचनाकार की भाषा तो बाबा नागार्जुन या त्रिलोचन जैसी लग रही है

-प्रदीप शुक्ल
July 1 at 10:44am

No comments: