Friday, September 25, 2015

योगेन्द्र दत्त शर्मा का नवगीत

बेहतर और कसा हुआ छन्द, पौराणिक प्रतीक और वर्तमान स्थितियों का सुन्दर चित्रण ।
बधाई।
-मुकुन्द कौशल

No comments: