Wednesday, September 02, 2015

एक हाथ में हल की मुठिया

आदरणीय !
यह नवगीत है भाषा तथा शिल्प के हिसाब से महेश अनघ सम्भवत: इसके रचनाकार हैँ...........

-निर्मल शुक्ल
July 1 at 2:03pm

No comments: