Wednesday, September 02, 2015

एक हाथ में हल की मुठिया

मेरा अध्ययन अत्यल्प है किन्तु मैं आदरणीय नचिकेता जी का नाम लेना चाहूँगा। उनके कुछ गीत मैंने पढ़े हैं। कुछ-कुछ वैसी ही शैली लग रही है।

-शुभम् श्रीवास्तव ओम
July 1 at 1:29pm

No comments: