Saturday, August 29, 2015

राजेन्द्र वर्मा

भारतेंदु जी! आप विधा के आधिकारिक विद्वान हैं, पर निर्मल जी वरिष्ठ रचनाकार हैं- वे गीत और नवगीत में अंतर समझते हैं. ग्रुप में रचना पोस्ट करने में उनसे त्रुटि हुई है जिसे उन्होंने सुधार भी लिया था- इसलिए उनकी रचना को केंद्र में रखकर नवगीत पर विमर्श अपेक्षित न था. बहरहाल, अब इसे यहीं समाप्त किया जाना उपयुक्त रहेगा।

-राजेन्द्र वर्मा
July 4 at 10:53pm

No comments: