Saturday, August 29, 2015

भारतेन्दु मिश्र

जी आपने सही किया। किंतु इसी बहाने नवगीत और गीत का फर्क समझने वाले मित्रों / किसी मित्र को भी आप और हम सही दिशा दे सकते हैं। मेरा लक्ष्य आपके गीत की समीक्षा के साथ ही इस अंतर को भी दोस्तो के सामने रखना था।आप तो नवगीत पर लगातार काम करते आ रहे हैं। आपकी समझ पर कोई प्रश्नचिह्न नहीं लगा रहा हूँ। उत्तरायण के अंक नवगीत की समझ को विकसित करने में लगातार अग्रणी भूमिका निभाते रहे हैं। लेकिन पिता और पुत्र में जो नाम गुण विचार आदि के तमाम अंतर होते हैं, वे सब गीत और नवगीत मे भी हैं।

-भारतेन्दु मिश्र
June 23 at 7:11pm · Unlike · 4

No comments: